भारतीय किसान श्रमिक जनशक्ती यूनियन के द्वारा जीपीओ गाधी प्रतिमा हजरतगंज पर एकत्रित होकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन एस एचओ हजरतगंज को सौपा

ब्यूरो चीफ़-गौरव बाजपेयी

1) तीन सूत्रीय अध्यादेश को वापस लिया जाय दिल्ली मे चल रहे धरना प्रदर्शन को-8-महीने हो गया जिसमे -500-से अधिक किसान शहीद हुए है उनके परिवार के हर एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी दी जाए सभी किसान भाई घर वापस हो जिससे देश व प्रदेश मे खुशी आए
2) भूमाफिया निलॉस वाटर पार्क के मालिको के द्वारा दर्जनों किसानों की जमीन वा सरकारी सैकडो बीघा जमीन जैसे गोमती नदी किनारा पशुचर बंजर तालाब नवीन परती चकरोड आदि पर अवैध कब्जा कर बडी ऊंची ऊंची दीवाल बना ली गई हैं और गोमती नदी की बीच धारा को मोड कर लगभग 2 किलोमीटर आर सीसी दीवाल बना दी गई है इसके अंदर विदेशो मे चलने वाले हर प्रकार के यंत्र वा मसीन और फौआरे लगाए गए है गोमती नदी का हजारो गैलन पानी रोज बरबाद किया जाता है निलॉस वाट्र पार्क के मालिको के द्वारा लगभग 300 सौ एकड मे पूरा काला साम्राज्य स्थापित कर रखा है जिससे पूरा छेत्र गॉव ग्रमीण किसान महिलाए बुजुर्ग सभी परेसान है किसानों में बहुत ही आक्रोश व्याप्त है इसकी जॉच जल कल बिभाग और प्रदुषण बिभाग राज्सव बिभाग से जांच करा कर उचित कार्वाही कराए जाने के लिए कई बार उच्चाअधिकारियो को अवगत कराया गया लेकिन आज तक इनकी कोई जाच नहीं हुई बिभिन्न लोगों से न्याय की गुहार लगाइ गई और प्रार्थना पत्र दिया गया जैसे
रक्षा मंत्री माननीय राजनाथ सिंह ,जिला अधिकारी लखनऊ,डीजीपी उत्तर प्रदेश,ADM प्रसाशन लखनऊ,ACM पंचम महोदय लखनऊ उपजिलाधिकारी मलिहाबाद,उपजिलाधिकारी बीकेटी सहित सभी सक्षम अधिकारियों को पत्र के माध्यम से कई बार अवगत कराया गया जिस पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई गरीब किसानो को न्याय कब मिलेगा और कहा है मुख्यमंत्री जी का एनटी भुमाफिया कानून क्या है और कहा काम कर रहा है क्या किसानों की जमीन हड़प ली जाएगी जिसमे कई किसान और पद्दाअधिकारी उपस्थित रहे।
कमलेश यादव प्रदेश अध्यक्ष,प्रदेश उपाध्यक्ष कमरुल चौधरी मंडल अध्यक्ष नवी अहमद, मंडल महा मंत्री तेज कुमार,वा मंडल अध्यक्ष अबिशेक सिंह जिला अध्यक्ष महिला रीना शर्मा, जिला अध्यक्ष अमर सिंह सितापुर,जिला सचिव पुनीत कस्यप जिला सचिव मोहम्मद कलीम किसान ननहे सिह सहित आदि किसान भाई भी सामिल हुए

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.